मंगलवार, 11 मई 2010

बड़का बि्लागर कौउन-कौनो जानत हो ?

तनिक छुट्टी लिए नौकरिया से। बाबु लोग बहुतै हलाकान करत हैं, एक बुढव साहब है रिटायर मेंट के नजीक मा, ऊ तो बहुत ही पगला गया हैं। बहुतै दिमाग चाटै लागे तो हम भी आज छुट्टी ले लिए तनि पीछा तो छुटै, अबहिं बिलाग पढत जात रहे , देखे का हिंया तो बड़का हलचल मचा है। खदबदाहट तो बहुतै दिन से था। अबहिं मामला कुछ खुल गया। दद्दा जी पूछन लागे कि बड़का बिलागर कौन? हमने भी उनका पुछा कि ईंहा बड़का बिलागर कौन नाही है? सबे तो बड़का बिलागर हैं। पर उड़नतश्तरी के एतना बड़का बिलागर कोऊ नाही। ई तो पूरा बिलाग जगत जानत है।

जौन बात सगरा बिलाग जगत जानत है ई बात का ढिंढोरा पीटे का कौउन जरुरत आन पड़ी। ई बात तो कु्छ जमी नाही।  लगता है बिलाग जगत का अमन चैन चो्राने का कोशिश कर रहे हैं, हफ़्ता 15 दिन ठीक चलता है फ़ेर कोऊ ना कोऊ हरकत हो जाता हैं, के ठहरे पानी में कंकरि्या मार के मौज होइ जाए। ई सब ठीक नही है। अगर आपके पास लिखे का सामगरी  नाही है गंगा मैया का फ़ोटुए बढियां हैं गंगा दरशन करीके आतमा तो त्रिप्त होई जात है। हम खुश होइ जात हैं।

एतना एवन हिन्दी लिखत हैं कि हमार डिकशनरी मा शब्द नाही मिलत। पाणिनी फ़ैल खा गए, एतना बढिया लि्खत-लिखत एतना घटि्या कैसे लिखन लागे? हम तो सोचिया सोचिया के पगलिया गए हैं। दीमाग मा इन्फ़ैक्शन होई गवा, अब का करी? उमर का भी तो असर हो्त है । एक दिमाग से केतना काम लिजिएगा, तनि जोर जियादा पड़ जाता है। दिमाग से तनिक कम काम लिजिए अऊर अच्छा बिलागिंग किजिए। ई नापने-नुपने का काम छोर दिजिए कौन बड़का, कौन छोटका। सबै बिलागर बड़का हैं छोटका कोऊ नाही। सबै जानत हैं।जय गंगा मैया के................
(उद्भोषणा-ये निर्मल हास्य है इसका किसी जिंदा या मुर्दा या इंसान या किसी घटना से कोई संबंध नही है )

12 टिप्‍पणियां:

  1. "सबै बिलागर बड़का हैं छोटका कोऊ नाही।" हम सहमत हैं क्योंकि इसमें हमें सुख मिल रहा है.
    हमारी टिपण्णी में अवरोध आ गया.
    लगता है आप नए नए आये हैं. स्वागत है. लेकिन टिपण्णी के लिए वर्ड वेरीफीकेशन को तो हटा दीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  2. "घटोत्कछ" होना चाहिए. सहमत हों तो अपनी ब्लॉग की टाइटिल को सुधार दें

    उत्तर देंहटाएं
  3. सबै बिलागर बड़का हैं छोटका कोऊ नाही। सबै जानत हैं।जय गंगा मैया के................
    हमरो एही वाणी है

    उत्तर देंहटाएं
  4. सबै बिलागर बड़का हैं छोटका कोऊ नाही। सबै जानत हैं।जय गंगा मैया के.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सबै बिलागर बड़का हैं छोटका कोऊ नाही। सबै जानत हैं।जय गंगा मैया के.....
    अच्छा लिखे हैं घटोत्कच्छ जी

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपने जैसा महसूस किया, वैसा लिखा और मुझे संबल प्रदान किया. आपके स्नेह से अभिभूत हूँ. स्नेह बनाये रखिये. बहुत आभार.

    एक अपील:

    विवादों को नजर अंदाज कर निस्वार्थ हिन्दी की सेवा करते रहें, यही समय की मांग है.

    हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार में आपका योगदान अनुकरणीय है, साधुवाद एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    -समीर लाल ’समीर’

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपने बढि़या लिखा है। मैं देख रहा हूं कि कारवां बनता चला जा रहा है। श्रीमान ज्ञानदत्त जी अब तो खोल से बाहर निकलकर माफी मांग लीजिए।

    उत्तर देंहटाएं
  8. badhiya, lagta hai thenth hindi ko sthaapit kariye denge aap. साधुवाद एवं अनेक शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  9. सबै बिलागर बड़का हैं छोटका कोऊ नाही। सबै जानत हैं।जय गंगा मैया के.....
    अच्छा लिखे हैं घटोत्कच्छ जी
    हिन्दी के प्रचार एवं प्रसार में आपका योगदान अनुकरणीय है, साधुवाद एवं अनेक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं

दिल खोल कर टिप्पणी करें
लौटाउंगा आपको उम्मीद से ज्यादा
ये है भीम पुत्र घटोत्कच्छ का वादा